Holi Ke Geet / होली के गीत

Holi Ke Geet
होली के गीत

जा साँवरिया के संग, रंग मैं कैसे होली खेलूँ री ।
कोरे-कोरे कलश भराये, जामैं घोरौ है ये रंग ।।
भर पिचकारी सन्मुख मारी, चोली है गई तंग । रंग० ।

ढोलक बाजै, मजीरा बाजै और बाजै मृदंग,
कान्हाजी की वंशी बाजै, राधाजी के संग । रंग० ।

लँहगा त्यारो, घूम घुमारौ, चोली है पचरंग ,
खसम तुम्हारे बड़े निखट्टू चलौ हमारे संग । रंग ० ।

सालऊ भीजै, दुसालऊ भीजै और भीजै पचरंग,
साँवरिया कौ का विगड़ैगौ, कारी कामर संग,
रंग मैं कैसे होली खेलूँ री। जा साँवरिया के संग ।

इसे भी पढ़ें :-

Leave a Comment

error: Content is protected !!