Mahalakshmi Ji Ki Aarti / माँ महालक्ष्मी जी की आरती

Maa Mahalakshmi Ji Ki Aarti
माँ महालक्ष्मी जी की आरती


जय लक्ष्मी माता, जय लक्ष्मी माता ।

तुमको निश दिन सेवत, हर विष्णु विधाता ।। जय” ।।

ब्रह्माणी कमला तू ही है जग माता ।
सूर्य चन्द्रमा ध्यावत, नारद ऋषि गाता ।। जय” ।।

दुर्गा रूप निरंजन, सुख सम्पत्ति दाता
जो कोई तुमको ध्यावत, ऋद्धि सिद्धि धन पाता ।। जय” ।।

तू ही है पाताल बसन्ती, तू ही है शुभ दाता ।
कर्म प्रभाव प्रकाशक, जग निधि में त्राता ।। जय” ।।

जिस घर थारा वासा, जेहि में गुण आता ।
कर न सके सोई करले, मन नहीं धड़कता ।। जय” ।।

तुम बिन यज्ञ न होवे, वस्त्र न होय राता ।
खान पान को वैभव, तुम बिन गुण दाता ।। जय” ।।

शुभ गुण सुन्दर मुक्ति, क्षीर निधि जाता ।
रत्न चतुर्दश ताको, कोई नहीं पाता ।। जय” ।।

यह आरती लक्ष्मी जी की, जो कोई नर गाता ।
उर आनन्द अति उमंगे, पाप उतर जाता ।। जय” ।।

जय लक्ष्मी माता, जय लक्ष्मी माता ।
तुमको निश दिन सेवत, हर विष्णु विधाता ।। जय” ।।

इसे भी पढ़े :–

Leave a Comment

error: Content is protected !!