Makar Sankranti Vrat Katha / मकर संक्रांति व्रत कथा

Makar Sankranti Vrat Katha Aur Puja Vidhi
मकर संक्रांति व्रत कथा और पूजा विधि


Makar Sankranti Vrat Katha Aur Puja Vidhi, मकर संक्रांति व्रत कथा और पूजा विधि :- पौष मास में जब सूर्य मकर राशि पर आता है तभी मकर संक्रान्ति होती है। वैसे संक्रान्ति हर महीने में होती है परन्तु कर्क, मकर राशियों पर सूर्य के जाने से विशेष महत्त्व होता है। यह संक्रमण क्रिया छह-छह महीने के अन्तर से होता है। मकर संक्रान्ति से सूर्य उत्तरायण स्थित रहने पर दिन बड़े तथा रातें छोटी होती हैं।

दक्षिणायन रहने पर रातें बड़ी व दिन छोटे होते हैं।

मकर संक्रांति पूजन विधि :-

अंग्रेजी तिथि के अनुसार मकर संक्रांति हमेशा 14 जनवरी को होती है। इस दिन गंगा स्नान तथा ब्राह्मण, भिक्षुक को यथाशक्ति दान देना चाहिए। दक्षिण भारत में इस पर्व को पोंगल कहा जाता है।

इसे भी पढ़ें :-

Leave a Comment

error: Content is protected !!