Jaharveer Goga Ji Aarti / श्री जाहरवीर गोगा जी आरती

Shri Jaharveer Goga Ji Aarti
श्री जाहरवीर गोगा जी आरती


जय जय जाहरवीर हरे जय जय गूगा वीर हरे

धरती पर आ करके भक्तों के दुख दूर करे ।। जय-जय ।।

जो कोई भक्ति करे प्रेम से हाँ जी करे प्रेम से
भागे दुख परे विघन हरे, मंगल के दाता तन का कष्ट हरे ।

जेवर राव के पुत्र कहाये रानी बाछल माता
बागड़ जन्म लिया वीर ने जय-जयकार करे ।। जय-जय ।।

धर्म की बेल बढ़ाई निश दिन तपस्या रोज करे
दुष्ट जनों को दण्ड दिया जग में रहे आप खरे ।। जय-जय ।।

सत्य अहिंसा का व्रत धारा झूठ से आप डरे
वचन भंग को बुरा समझकर घर से आप निकरे ।। जय-जय ।।

माड़ी में तुम करी तपस्या अचरज सभी करे
चारों दिशा में भक्त आ रहे आशा लिए उतरे ।। जय-जय ।।

भवन पधारो अटल क्षत्र कह भक्तों की सेवा करे
प्रेम से सेवा करे जो कोई धन के भण्डार भरे ।। जय-जय ।।

और पढ़ें

Leave a Comment

error: Content is protected !!