Shanidev Ji Aarti / श्री शनिदेव जी आरती

Shri Shanidev Ji Aarti
श्री शनिदेव जी आरती


जय जय शनिदेव महाराज,

जन के संकट हरने वाले ।

तुम सूर्यपुत्र बलधारी, भय मानत दुनिया सारी जी ।
साधत हो दुर्लभ काज ।।

तुम धर्मराज के भाई, जम क्रूरता पाई जी ।
घन गर्जन करत आवाज ।।

तुम नील देव विकरारी, भैंसा पर करत सवारी जी ।
कर लोहा गदा रहें साज ।।

तुम भूपति रंक बनाओ, निर्धन सिर छात्र धाराओ जी ।
समरथ हो करन मम काज ।।

राजा को राज मिटाओ, जिन भगतों फेर दिवायो जी ।
जग में ह्वै गयी गयी जै जैकार ।।

तुम हो स्वामी, हम चरनन सिर करत नमामि जी ।
पुरवो जन जन की आस ।।

यह पूजा देव तिहारी, हम करत दिन भाव ते पारी जी ।
अंगीकृत करो कृपालु जी ।।

प्रभु सुधि दृष्टि निहारौ, क्षमिये अपराध हमारो जी ।
है हाथ तिहारे ही लाज ।।

हम बहुत विपत्ति घबराए, शरनागति तुमरी आए जी ।
प्रभु सिद्ध करो सब काज ।।

यह विनय कर जोर के भक्त सुनावें जी ।
तुम देवन के सिर ताज ।।

जय जय शनिदेव महाराज,
जन के संकट हरने वाले ।

इसे भी अवश्य पढ़ें :-

Leave a Comment

error: Content is protected !!