Shri Gayatri Stuti / श्री गायत्री स्तुति

Shri Gayatri Stuti

Shri Gayatri Stuti, श्री गायत्री स्तुति :- सर्वगे ! आप सम्पूर्ण प्राणियों की अधिष्ठात्री हैं। स्वाहा और स्वधा आपकी ही प्रतिकृतियाँ हैं; अतः आपको मेरा नमस्कार है। महान् दैत्यों का दलन करनेवाली देवि ! आप सभी प्रकार से परिपूर्ण हैं। आपके मुख की आभा पूर्णचन्द्र के समान है। आपके शरीर से महान् तेज छिटक रहा है। आपसे ही यह सारा विश्व प्रकट होता है। आप महाविद्या और महावेद्या हैं। आनन्दमयी देवि !

error: Content is protected !!