Dono Senao Ki Shankh Dhwani / दोनों सेनाओं की शंख ध्वनि

Dono Senao Ki Shankh Dhwani Ka Kathan

Dono Senao Ki Shankh Dhwani Ka Kathan, दोनों सेनाओं की शंख ध्वनि का कथन- भगवान् कृष्ण ने अपना पाञ्चजन्य शंख बजाया, अर्जुन ने देवदत्त शंख तथा अतिभोजी एवं अतिमानवीय कार्य करने वाले भीम ने पौण्ड्र नामक भयंकर शंख बजाया। हे राजन् ! कुन्तीपुत्र राजा युधिष्ठिर ने अपना अनंतविजय नामक शंख बजाया तथा नकुल और सहदेव ने सुघोष एवं मणिपुष्पक शंख बजाये।

error: Content is protected !!