Mahalakshmi Stuti / महालक्ष्मी स्तुति

Mahalakshmi Stuti

Mahalakshmi Stuti, महालक्ष्मी स्तुति :- इस स्तुति से प्रसन्न हो देवी के द्वारा वर माँगने के लिये कहने पर अगस्त्य मुनि बोले- हे देवि!] मेरे द्वारा की गयी इस स्तुति का जो भक्तिपूर्वक पाठ करेंगे, उन्हें कभी संताप न हो और न कभी दरिद्रता हो, अपने इष्ट से कभी उनका वियोग न हो और न कभी धन का नाश ही हो। उन्हें सर्वत्र विजय प्राप्त हो और उनकी संतान का कभी उच्छेद न हो।

error: Content is protected !!